Padhna, Zara Sochna

Padhna, Zara Sochna

  • Rs 200.00

  • Ex Tax:Rs 200.00

Ravish Kumar writes about Padhna, Zara Sochna:

क्यों और क्या पढ़ना है, इस जिज्ञासा का अंत कैसे हुआ ?

जब आप स्कूल में थे और जब आप उसी स्कूल में शिक्षक हैं तो आप वही कर रहे हैं जो आपके साथ किया जा रहा था। पढ़े हुए लोगों में पढ़ने को लेकर इतनी विरक्ति क्यों है इसे कृष्ण कुमार ने कितनी सरलता से समझाया है। इस जटिल संसार में कृष्ण कुमार को पढ़ना ख़ुद को सरल बनाना है। हर बच्चा पढ़ना चाहता है लेकिन हर बच्चा पढ़ाई से दूर हो जाता है। इस पुस्तक को पढ़ने के लाभ नहीं हैं क्योंकि यह पुस्तक लाभ के लिए पढ़ने की मनोवृत्ति का प्रतिकार करती है। तय आपको करना है कि पढ़ना है या नहीं और क्यों पढ़ना है ।

आनंद आया। किसी ने पढ़ाया तो नहीं लेकिन पढ़ने का रास्ता बता दिया। शिक्षण में जो लोग हैं वो कैसे नहीं पढ़ाना चाहिए, उसके गुर सीखने के लिए इसे पढ़ सकते हैं।

माँ बाप,जिन्होंने माँ और बाप बनने के बहुत पहले पढ़ना छोड़ दिया लेकिन चाहते हैं कि उनका बच्चा पढ़ें वो अगर इसे पढेंगे तो मज़ा आएगा।


Professor Krishna Kumar is the first name that comes to our mind when we think about books on education. His use of language is so creative that it can be read for the experience of literature. His choice of vocabulary and formation of sentences is remarkable. Often, he transforms an average sentence into an unforgettable one. He gets hold of the root of the issues. This books discusses issues concerning reading. This book consists of seven chapters concerning topics such as reading, comprehension and defining a good children's literature. The preface of the book is in itself an article. It's very first sentence stops you to think- bina padhe-likhe logon ko anpadh kahkar hum padhe likhe un logon ke liye koi shabd nahi chhodte jo padhte nahi hain.
Like Raj, Samaj aur Shiksha and Chudi Bazaar Mein Ladki, this is a thought-provoking book.


Chandramohan Kulkarni created clay sculptures to illustrate this book. These sculptures would have a calming effect on the readers.

Age
Age 12+
Book Details
Author Krishna Kumar
Illustrator Chandramohan Kulkarni
Publisher Jugnoo Prakashan, an imprint of Ektara Trust
Year 2019
ISBN 978-9384375485
No. of Pages 68
Size 8.5×8.5 inches
Colour Four Colour Print

Write a review

   Bad           Good

Tags: Book, Non-Fiction, Krishna Kumar, Chandramohan Kulkarni

Tags: Book, Non-Fiction, Krishna Kumar, Chandramohan Kulkarni

Newsletter

×

* E-Mail:

The product is currently Out-of-Stock. Enter your email address below and we will notify you as soon as the product is available.

Name
Email